कलस्टर आधारित एप्रोच अपनाएं- उद्योग आयुक्त

  • District : dipr
  • Department :
  • VIP Person :
  • Press Release
  • State News
  • Attached Document :

    D-2-11-2018-2.doc

Description

कलस्टर आधारित एप्रोच अपनाएं- उद्योग आयुक्त 

जयपुर, 2 नवंबर। उद्योग आयुक्त डॉ. समित शर्मा ने जिला उद्योग केन्द्रों के महाप्रबंधकों को कलस्टर आधारित एप्रोच अपनाने की आवश्यकता प्रतिपादित की है। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के परंपरागत हस्तशिल्प और क्षेत्र विशेष के परंपरागत लघु उद्योगों का संरक्षण व संवद्र्धन हो सकेगा।

आयुक्त डॉ. शर्मा शुक्रवार को उद्योग भवन से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से जिला उद्योग केन्द्रों के महाप्रबंधकों से रुबरु हो रहे थे। उन्होने कहा कि परंपरागत उद्योग धन्धों और परपंरागत हुनर से युवाओं को जोड़ने से स्थानीय स्तर पर ही रोजगार के अवसर भी उपलब्ध हो सकेेंगे। इसके साथ क्षेत्र का आर्थिक विकास संभव हो सकेगा। उन्होंने कहा कि राजस्थान में मिट््टी, पत्थर, कपास, सूत, लोहा, ज्वैलरी सहित अन्य में हुनर व कला छिपी हुई है।

डॉ. शर्मा ने कहा कि राजस्थान में हस्तशिल्पियों, हुनरमंद युवाओं, दस्तकारों, बुनकरो द्वारा देश-दुनिया में विशिष्ठ पहचान बनाई हुई है और राजस्थानी उत्पादों को विदेशों तक अच्छी मांग है। ऎसे में युवाओ को इससे जोड़ कर बिचौलियों से बचाते हुए सीधे जोड़ने में जिला उद्योग केन्द्रों का आगे आना होगा।

 अतिरिक्त निदेशक श्री पीके जैन और संयुक्त निदेशक श्री संजीव सक्सैना ने उद्योग विभाग के सहयोग व समन्वय से संचालित कलस्टरों की प्रगति से अवगत करायां।

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में सहायक निदेशक रश्मीकांत नागर, केन्द्र सरकार के एमएसएमई के अजय शर्मा और रीको के राजेन्द्र ने हिस्सा लिया।

-----

Supporting Images