सहकारिता रजिस्ट्रार ने किया मसाला मेले का अवलोकन बूंदी के चावल एवं केरल के मसाला उत्पाद बने विशेष आकर्षण के केन्द्र

सहकारिता रजिस्ट्रार ने किया मसाला मेले का अवलोकन बूंदी के चावल एवं केरल के मसाला उत्पाद बने विशेष आकर्षण के केन्द्र
  • District : dipr
  • Department :
  • VIP Person :
  • Press Release
  • State News
  • Attached Document :

    S-14-05-2019-3.doc

Description

सहकारिता रजिस्ट्रार ने किया मसाला मेले का अवलोकन
बूंदी के चावल एवं केरल के मसाला उत्पाद बने विशेष आकर्षण के केन्द्र

जयपुर, 14 मई। रजिस्ट्रार, सहकारिता डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि राष्ट्रीय सहकार मसाला मेला, 2019 का आयोजन सहकारिता विभाग का एक अनूठा प्रयास है जिसके माध्यम से हम शुद्ध मसालों एवं खाद्य पदार्थों को आमजन की रसोई तक पहुंचा कर वर्तमान एवं आगे की पीढ़ी के स्वास्थ्य को समृद्ध बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मेले के माध्यम से हम एक ही छत के नीचे प्रदेश के सभी क्षेत्रों के साथ-साथ केरल, ​तमिलनाडु , पंजाब जैसे राज्योेंं के विशिष्ट मसालों एवं उत्पादों को पूर्ण शुद्धता के साथ उचित मूल्य पर उपलब्ध करा रहे हैं।

श्री पवन ने मंगलवार को मेले का विजिट करते हुये कहा कि सहकारिता का मूल उद्धेश्य आमजन कोगुणवत्तापूर्णएवं विश्वसनीय सेवाओं के माध्यम से सहकारिता की भावना को साकार करना है। उन्होंने कहा कि भविष्य में और नवाचारों के माध्यम से राज्य में सहकारिता एक विशिष्ट पहचान कायम करेगा। श्री पवन ने इस मौके पर मसाला विक्रेताओं एवं उपभोक्ताओं से मिलकर मेले का फीडबैक भी लिया।

उपभोक्ता संघ के प्रबन्ध निदेशक श्री संजय गर्ग ने बताया कि मेले में जयपुरवासियों द्वारा अपनी आवश्यकता के अनुसार मसालों एवं अन्य उत्पादों की खरीद की जा रही है। उन्होंने बताया कि मेले में प्रतिदिन औसतन 12 से 15 लाख रुपये की बिक्री दर्ज की गई है और पांच दिनों मेंं 60 लाख से अधिक मूल्य के मसालों की बिक्री हो चुकी है। उन्होंने बताया कि उपभोक्ताओं को रोजाना लकी ड्रा निकाला जा रहा है।

उन्होंने बताया कि मेले में लोगों को बूंदी का चावल जिसे राजस्थान का बासमती चावल भी कहा जाता है, बहुत लुभा रहा है। गृहणियां विशेष तौर बूंदी के इस बासमती चावल की खरीददारी कर रही हैं। मेले में केरल से आई मार्कफैड के स्टॉल पर काली मिर्च, इलायची, लोंग, बड़ी इलायची, जावित्री, काजू, दालचीनी सहित केरल राज्य के विशेष उत्पाद लोगों के मन को भा रहे हैं।

मेले में अलग-अलग दिनों में राजस्थान की कला एवं संस्कृति को समृद्ध बनाने वाले लोक उत्सव भी आयोजित किये जा रहे हैं। मंगलवार को मारवाड़ के लंगा लोक कलाकारों ने प्रस्तुुति के माध्यम से लोगों का दिल जीत लिया।


---

Supporting Images

सहकारिता रजिस्ट्रार ने किया मसाला मेले का अवलोकन बूंदी के चावल एवं केरल के मसाला उत्पाद बने विशेष आकर्षण के केन्द्र