भारतीय शिल्प संस्थान का 7वां दीक्षान्त समारोह युवाओं में कौशल विकास के साथ उद्यमिता को मिले बढ़ावा -मुख्यमंत्री

भारतीय शिल्प संस्थान का 7वां दीक्षान्त समारोह  युवाओं में कौशल विकास के साथ उद्यमिता को मिले बढ़ावा -मुख्यमंत्री
  • District : dipr
  • Department :
  • VIP Person :
  • Press Release
  • State News
  • Attached Document :

    LK-07-11-19-5.docx

Description

भारतीय शिल्प संस्थान का 7वां दीक्षान्त समारोह

युवाओं में कौशल विकास के साथ उद्यमिता को मिले बढ़ावा
-मुख्यमंत्री

जयपुर, 7 नवम्बर। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार कौशल विकास को बढ़ावा देने की दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रही है। हमारा प्रयास है कि कौशल विकास के साथ-साथ युवाओं में उद्यमिता को भी बढ़ावा दिया जाए। इसके लिए स्किल डवलपमेन्ट यूनिवर्सिटी एवं आईटीआई के माध्यम से युवाओं को ज्यादा से ज्यादा प्रशिक्षित किया जा रहा है। 

मुख्यमंत्री गुरूवार को झालाना संस्थानिक क्षेत्र में भारतीय शिल्प संस्थान के 7वें दीक्षान्त समारोह को मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने समारोह में विभिन्न पाठ्यक्रमों में पास आउट हो चुके छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र वितरित किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह संस्थान 1995 मेें स्थापित हुआ था और इतने सालों में इसने काफी तरक्की की है। विभिन्न पाठ्यक्रमों में विद्यार्थियों के चयन में पारदर्शिता एवं अच्छी फैकल्टी के कारण यह संस्थान प्रतिभाओं को तराशने का कार्य करते हुए उत्तरोतर ऊंचाइयां छू रहा है, इसके लिए संस्थान बधाई का पात्र है।

श्री गहलोत ने कहा कि यह खुशी की बात है कि भारतीय शिल्प संस्थान से निकले हुए छात्र देश और दुनिया में अपना नाम रोशन कर रहे हैं। संस्थान के माध्यम से शिल्पकारों एवं कारीगरों को भी प्रोत्साहन मिल रहा है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश में निवेश को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठा रही है। उद्यमियों की सुविधा के लिए राजस्थान सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (फैसिलिटेशन ऑफ एस्टेब्लिशमेन्ट ऑपरेशन) अधिनियम, 2019 के माध्यम से हमने उद्यम शुरू करने वाले किसी भी उद्यमी को तीन वर्ष तक विभिन्न स्वीकृतियों एवं निरीक्षण से छूट दी है। इससे नए उद्यमियों को अपना उद्यम लगाने में आसानी होगी। उन्होंने कहा कि राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना लाई जा रही है और सिंगल विन्डो सिस्टम को और मजबूत किया जा रहा है। 

श्री गहलोत ने कहा कि आज देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति चिन्ताजनक है। उद्योग एवं व्यापार जगत, मध्यम वर्ग एवं मजदूर वर्ग पर अर्थव्यवस्था की मंदी का असर दिखाई दे रहा है। ऎसे में हमारे युवा कौशल विकास का प्रशिक्षण लेकर अपनी उद्यमिता को आगे बढ़ाते हुए अर्थव्यवस्था को मजबूती दे सकते हैं। इस दिशा में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भारतीय शिल्प संस्थान एवं अन्य राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों को आगे आकर युवाओं को प्रोत्साहित करने की जरूरत है। 

कार्यक्रम में उद्योग मंत्री श्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि संस्थान को राज्य सरकार की ओर से पूरा सहयोग किया जाएगा। भारतीय शिल्प संस्थान की चेयरपर्सन श्रीमती मधु नेवटिया ने मुख्यमंत्री एवं अन्य अतिथियों का स्वागत करते हुए संस्थान की उपलब्धियों की जानकारी दी। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन डिजाईनिंग की चेयरपर्सन श्रीमती रति विनेजा ने दीक्षान्त समारोह में विद्यार्थियाें को शपथ दिलाई। 

समारोह में मुख्य सचिव श्री डी.बी. गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग डॉ. सुबोध अग्रवाल अंबुजा नेवटिया समूह के अध्यक्ष श्री हर्षवर्धन नेवटिया, भारतीय शिल्प संस्थान की निदेशक डॉ. तूलिका गुप्ता, गवर्निंग काउंसिल के सदस्य श्री एम.एल. गुप्ता एवं अन्य गणमान्य अतिथि उपस्थित थे। 

इससे पहले मुख्यमंत्री ने भारतीय शिल्प संस्थान परिसर में लगी प्रदर्शनी में मीनाकारी, स्टोन आर्ट, तरकाशी, लाख एवं चर्म उत्पादों को बारीकी से देखा और शिल्पकारों एवं कारीगरों से उनके बारे में जानकारी ली।



----

Supporting Images

भारतीय शिल्प संस्थान का 7वां दीक्षान्त समारोह  युवाओं में कौशल विकास के साथ उद्यमिता को मिले बढ़ावा -मुख्यमंत्री भारतीय शिल्प संस्थान का 7वां दीक्षान्त समारोह  युवाओं में कौशल विकास के साथ उद्यमिता को मिले बढ़ावा -मुख्यमंत्री भारतीय शिल्प संस्थान का 7वां दीक्षान्त समारोह  युवाओं में कौशल विकास के साथ उद्यमिता को मिले बढ़ावा -मुख्यमंत्री